Google द्वारा शेयर किये गए 3 Best Official SEO Factors 2019

0

Top 3 for 2020 in Hindi: Google 300 से अधिक Ranking Factors काम करता है। लेकिन उनमें से Top 10, Top 5 या Top 3 के बारे में बहुत कम लोग जानते हैं। हम Bloggers Experts द्वारा बताए गए Google Top Ranking Factors के बारे में आपको बताते हैं।

लेकिन आज मैं आपको किसी Experts के नहीं बल्कि Google Webmaster Trends Analysis, Martin Splitt के द्वारा बताए गए Top 3 SEO Factors के बारे में बताऊंगा। आइए जानते हैं, Google Shares Top 3 SEO Factors for 2020 in Hindi.

Google द्वारा शेयर किये गए 3 Best Official SEO Factors 2019

सभी Bloggers यही चाहता है कि उसे Google के टॉप रैंकिंग Factors के बारे में पता हो ताकि वह उनको Follow करके अपने Blog को Search Engine में Rank करा सके।

लेकिन दोस्तों समय-समय पर Google Algorithms Update आती रहती हैं और Google के Ranking Factors Change होते रहते हैं। ऐसे में यह जानना बहुत मुश्किल होता है कि इस समय में कौन सा Ranking Factors काम कर रहे हैं।

अब जब Google के ही Member ने गूगल के टॉप 3 Seo Factor के बारे में बताया है तो यह Clear हो गया है कि इनको Follow करने से हमारा फायदा ही होगा।

चूँकि यह Google के सदस्य ने शेयर किए हैं तो इन्हें हम Google Official SEO Factors भी कह सकते हैं। चलिए अब मैं आपको बताता हूं उन Top SEO Factors के बारे में।

Google के द्वारा Share किए गए Top 3 SEO Factors 2019 – 2020

आप निश्चित होकर इन Google के बताएं Ranking Factors को Follow कर सकते हैं। यह 100% वर्क करेंगे और आप को फायदाहोगा , आपका Blog Rank करेगा।

SEO Factor #1

अगर बात की जाए Google के सबसे First Ranking Factors की तो वह है Block सामग्री। Google में Top Rank पाने के लिए आपके Blog पर वास्तव में अच्छी Content होनी चाहिए।

आपको कुछ ऐसा Content लिखना चाहिए जो Users के लिए एक Vealue से प्रदान करता हो । जिसमें Visitors के सवालों का जवाब सही तरीके से दिया गया हो।

Simple भाषा में, आप के Blog पर वह Content होना चाहिए Users को चाहिए। वैकल्पिक रूप से वह Content जिसकी Users को आवश्यकता है, उसे Top Rank मिलेगी।

Martin कहते हैं कि लेखक सामग्री में उन वाक्यांश का प्रयोग करते हैं जो खोज करते समय जो करता सर्च करते हैं। इससे कंटेंट का संतुलन बिगड़ जाता है।

आपको चाहिए कि आप सिर्फ Search Keyword को ध्यान में रखकर ही Content ना लिखें, बल्कि अपने Content को Users के लिए पढ़ने में आसान और आसानी से समझ आने वाला बनाएं।

SEO Factor #2 – मेटा डाटा (Meta Data)

Google का दूसरा सबसे बड़ा SEO Factor है मेटा डाटा। Meta data यह सुनिश्चित करता है कि आपके Article में क्या है, यह आपकी सामग्री का वर्णन करता है।

यह Search Engine में title के साथ show है। इससे Users को यह पता चलता है कि कौन से परिणाम में क्या हो सकता है और उसे किससे क्या मदद मिल सकती है।

एक Meta Data एक Ranking कारक है। क्योंकि यह Search Engine में आपके खराब Title के होते हुए भी यूज़र को अट्रैक्ट कर सकता है। अभी के समय यह गूगल का linking से भी पहले का रैंकिंग फैक्टर है।

आप ना सिर्फ बढ़िया Content लिखने पर ध्यान दें, बल्कि उसके लिए बेहतर से बेहतर मेटा विवरण भी शामिल करें। इससे सर्च इंजन में आपकी पोस्ट लिंग पर ज्यादा क्लिक्स मिलेंगे।

बहुत से ब्लॉगर, इस चीज को इग्नोर कर देते हैं और सिर्फ क्वालिटी कंटेंट लिखकर अपनी पोस्ट को पब्लिश कर देते हैं। उम्मीद है इस पोस्ट को पढ़ने के बाद वह ऐसा नहीं करेंगे।

SEO Factor #3 – प्रदर्शन (Performance)

जी हां गूगल के मार्टिन स्प्लिट ने बताया है कि Website Performance गूगल के टॉप 3 रैंकिंग फैक्टर्स में शामिल है। Performance पहले भी काफी समय से Top Ranking Factor रहा है।

कुछ लोगों का कहना है कि अगर गति महत्वपूर्ण है तो यहां ऐसी बहुत सारी शीर्ष साइटें है जिनकी परफॉर्मेंस इतनी तेज नहीं है लेकिन फिर भी और टॉप में है।

तो मैं आपको बता दूं कि हां प्रदर्शन एक रैंकिंग कारक है लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि वह हर चीज को ओवरराइड कर देता है।

गूगल के 200 से ज्यादा रैकिंग फैक्टर है। अगर कोई साइट बेकार परफॉर्मेंस के साथ भी टॉप में है तो इसका मतलब वह गूगल के बाकी रैंकिंग फैक्टर को फॉलो कर रही है।

निष्कर्ष,
हमारे पास फॉलो करने के लिए बहुत सारे रैंकिंग कारक है। इसलिए हमें हर चीज फॉलो करने की जरूरत नहीं है। अगर हम उनमें से कुछ टॉप रैंकिंग फैक्टर्स को फॉलो कर ले तो भी गूगल में टॉप रैंक पा सकते हैं।

मेरे हिसाब से, ऐसी कोई वेबसाइट या ब्लॉग नहीं होगा जो गूगल के सभी रैंकिंग फैक्टर्स को फॉलो करता हूं। जो गूगल की किसी भी गाइडलाइन का उल्लंघन नहीं करता हूं।

इसके बावजूद लोगों के ब्लॉग गूगल में टॉप में होते हैं। इसलिए इस बात को आप अच्छे से समझ लो कि आपको सभी रैंकिंग फैक्टर्स को फॉलो करने की जरूरत नहीं है।